Wednesday, August 8, 2012

सेमेजदीन महमदीनोविक की कविता

बोस्नियाई कवि सेमेजदीन महमदीनोविक की एक कविता...   

 
तारीखें : सेमेजदीन महमदीनोविक 
(अनुवाद : मनोज पटेल) 

वह मार दिया गया था १७ जनवरी १९९४ को. 
तबसे हर दिन 
मरा हुआ ही है वह. 

वह मरा हुआ है आज भी -- 
शुक्रवार २४ फरवरी १९९५ को. 

और हर शाम 
कुछ रहस्यमय घटित होता है मेरे साथ 
जब गुसलखाने में जाता हूँ मैं. 

आईने में देखता हूँ 
कैसे मेरे बाएँ कंधे के ऊपर 
उगती है एक परछाईं. 

वह मेरी नहीं होती. और जब 
पलटकर देखता हूँ उस कंधे के ऊपर, 
क्या देखता हूँ मैं? 

एक सपना, लेकिन मेरी आँखें खुली हुईं : 
एक काला कौआ बैठा हुआ है मेरी मेज पर 
जो बोलता भी है, 

वह कहता है: १७ मई को 
चेरियाँ पक जाएंगी सारायेवो में. 

मैं सुन लेता हूँ, और इंतज़ार करता हूँ. 
                 :: :: :: 

7 comments:

  1. "...मैं सुन लेता हूं, और इंतज़ार करता हूं." एक बोलता हुआ काला कौआ यक़ीन किये जाने लायक़ सच का बखान करके नई उम्मीद जगा देता है. इंतज़ार उम्मीद और जीवंतता दोनों को दर्शाता है.

    ReplyDelete
  2. जिस रोज वो मरा तब से हर दिन वो मारा हुआ ही है.........
    अद्भुत...अद्भुत....

    शुक्रिया
    अनु

    ReplyDelete
  3. Your blog is good.I want to place AD for my website 3mik.com on your blog . I am unable to see the contact form.So i am dropping the message in comment. Please send me your ad rate at sanjeev@3mik.com

    ReplyDelete
  4. सुंदर कविता। यथार्थ के बेहद करीब से गुजरती हुई। आने वाले वक़्त की झलक देती हुई। सपनों की परछाई, काले कौए का बोलना और चेरियों के पकने की तिथि और उसका इंतजार........कविता की स्पष्टता बहुत आकर्षक है। बहुत-बहुत शुक्रिया कविता के अनुवाद के लिए और साझा करने के लिए।

    ReplyDelete
  5. Intzaar ke maane batlatee see kavita...

    ReplyDelete
  6. maut ki upasthiti aur ujjawal bhavishy ki kavita.

    ReplyDelete
  7. मनोज जी इस रचना के भाव बहुत ही संवेदनशील और ह्रदयस्पर्शी है, साथ में अगर परिप्रेक्ष भी पता होता तो रचना को बहेतर तरीके से समझ सकते.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...