Wednesday, September 5, 2012

रॉबर्ट ब्लाय : पुराने गुरुजनों के प्रति आभार

आज शिक्षक दिवस पर रॉबर्ट ब्लाय की यह कविता...    

 
पुराने गुरुजनों के प्रति आभार  : रॉबर्ट ब्लाय 
(अनुवाद : मनोज पटेल)

जब हम चहलकदमी करते हैं किसी जमी हुई झील पर, 
हम वहां रखते हैं अपने कदम जहां वे पहले कभी नहीं पड़े थे. 
अछूती सतह पर चहलकदमी करते हैं हम. मगर होते हैं बेचैन भी.
कौन होता है वहां नीचे, सिवाय हमारे पुराने गुरुजनों के ?

पानी जो कभी संभाल नहीं पाता था इंसान का वजन 
--तब हम विद्यार्थी हुआ करते थे-- अब टिकाए रहता है हमारे पैरों को,
और कोई मील भर फैला होता है हमारे सामने. 
हमारे नीचे होते हैं गुरुजन, और खामोशी होती है हमारे चारों ओर. 
                    :: :: :: 

6 comments:

  1. "...हमारे नीचे होते हैं हमारे गुरुजन, और ख़ामोशी होती है हमारे चारों ओर." गुरुओं के कंधे पर चढ़े होते हैं हम लोग, और इसलिए हमें कई दफ़ा वहम होता है यह कि हम उनसे ज़्यादा जानते हैं. निरा भ्रम. अच्छी कविता के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. गुरुप्रदत्त ज्ञान से झील का पानी भी ठोस बर्फ सा होजाता है जिसपर हम इत्मीनान से चल सकते हैं ! बहुत अच्छी कविता पढ़ाई आज 'शिक्षक-दिवस पर ! आभार

    ReplyDelete
  3. शिक्षक दिवस पर विशेष - तीन ताकतों को समझने का सबक - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. Thanks for bringing this beautiful poem to us on this day...truly touching...

    ReplyDelete
  5. शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!
    ............
    ये खूबसूरत लम्हे...

    ReplyDelete
  6. अनन्य भावांजली...!!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...