Friday, February 8, 2013

एमिली डिकिन्सन की कविता


अमेरिकी कवयित्री एमिली डिकिन्सन की एक कविता...  




बहुत सतर्क होने की जरूरत होती है शल्य चिकित्सकों को : एमिली डिकिन्सन 
(अनुवाद : मनोज पटेल) 

बहुत सतर्क होने की जरूरत होती है शल्य चिकित्सकों को 
जब वे उठाते हैं नश्तर! 
उनके बारीक चीरों के नीचे 
धड़कती है मुजरिम -- ज़िंदगी 
              :: :: :: 

5 comments:

  1. आह...
    बेहतरीन!!

    अनु

    ReplyDelete
  2. जिंदगी सचमुच बचाए जाने लायक है. काश शल्यचिकित्सक यह कविता पढते.

    ReplyDelete
  3. अद्भुत कविता। आभार।

    ReplyDelete
  4. कुल जमा चार पंक्तियों के इस तर्जुमे में कितना अद्भुत सौंदर्य भर दिया है मनोज पटेल ने, वाकई मूल पढ़ने की कतई इच्‍छा नहीं रही ...

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...