Friday, December 16, 2011

मरम अल-मसरी : अपनी नग्नता की पोशाक में

मरम अल-मसरी की चार कविताएँ...



 









मरम अल-मसरी की चार कविताएँ 
(अनुवाद : मनोज पटेल)

नहीं...
तुम्हारा दरवाजा नहीं है यह 
जिस पर मैं दस्तक दे रही हूँ.
यह वो दरवाजा नहीं है 
जिसके पीछे से 
मुझे सुनाई दे रही है 
किसी की आहट.
वह दरवाजा नहीं है यह 
जो उखड़ा हुआ है अपनी चौखट से 
अब भी इन्कार करता हुआ 
खुलने से.
:: :: :: 

तुम तज दोगे मुझे ?
तो फिर 
कौन देखेगा मुझे 
अपनी नग्नता की पोशाक में 
जिसमें 
मैं दिखती हूँ 
सचमुच खूबसूरत. 
:: :: :: 

तुम्हारी छाती से लगी हुई 
बटोरती जा रही हूँ 
तुम्हारी छोड़ी हुई साँसों को 
उस दिन के लिए 
जब रुकने वाली होगी मेरी सांस. 
:: :: :: 

एक पुरुष, मुंह है जिसके पास 
मगर बोलता नहीं वह,
होंठ हैं 
मगर चूमता नहीं. 

एक पुरुष, नाक है जिसके पास 
मगर सूंघता नहीं वह, 
कान हैं, मगर सुनता नहीं. 
उदास आँखें हैं 
उसके पास 
और लम्बी बाहें 
जो नहीं जानतीं 
लेना अपने आगोश में. 

एक काक भगौड़े ने 
छल लिया 
मेरी गौरैयों को.
:: :: ::  
Manoj Patel 

16 comments:

  1. बहुत ही लाजवाब कवितायेँ ! मरम-अल-मसरी की इन मर्मबेधी कविताओं के अनुवाद और प्रस्तुति के लिए आभार मनोज जी !

    ReplyDelete
  2. बेहद सच्‍चे और पारदर्शी मन से रची ऐसी खूबसूरत कविताओं को अपनी जुबान में उपलब्‍ध कराने के लिए मनोज का तहे दिल से शुक्रिया।

    ReplyDelete
  3. 'अब भी इनकार करता हुआ खुलने से'......'एक काक भगोड़े ने/ छल लिया मेरी /गौरैया को' कितनी सादगी के साथ !
    इतना शानदार काम, बिना रुके करते चले जाने के संकल्प को सलाम.

    ReplyDelete
  4. एक काक भगौड़े ने छल लिया गौरैयों को...वाह !

    ReplyDelete
  5. ये शानदार काम अनवरत रहे .. शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  6. एक काक भगौड़े ने छल लिया गोरियों को वाह बहुत ही गहन और खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. wakaee aapake kam ka koee sani nahi manoj bhaee. mai aapki harek post jaroor padhta hu. mohan srotriy ji ki bat se mai sahmat hu ki aap itihas rach rahe hai. aapke jajbe ko salam.
    santosh chaturvedi.

    ReplyDelete
  8. जब से इस ब्लॉग को देखा है अद्भुत कविताएं पढ़ने को मिल रही हैं।

    ReplyDelete
  9. "एक काक भगौड़े ने छल लिया गौरैया को"..... बेहद मर्मस्पर्शी कवितायें....

    आपका अनुवाद ..आहा !!!
    लगता ही नहीं कि अनुवाद है ...बधाई

    ReplyDelete
  10. रूहानी कविता ...

    ReplyDelete
  11. प्यारी कविता ... :-)

    ReplyDelete
  12. अच्‍छा स्‍पर्श कलमकार का ;;;;;

    ReplyDelete
  13. बहुत ही गहरी और सूक्ष्म संवेदनाएं

    ReplyDelete
  14. भावनाओं की मौत के शब्दों से कवितायेँ बहुत शानदारी से गुथी हुई हैं !

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...