Wednesday, May 9, 2012

ऊलाव हाउगे : तलवार

ऊलाव ह. हाउगे की एक और कविता...  

 

तलवार : ऊलाव एच. हाउगे 
(अनुवाद : मनोज पटेल) 

काटती है 
तलवार 
निकाले जाने पर, 
कुछ और नहीं 
-- तो हवा को ही. 
     :: :: :: 

2 comments:

  1. बहुत खूब ! तलवार का धर्म ही यही है --काटना !

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...