Monday, June 4, 2012

एवा लिप्सका की कविता

पोलिश कवियत्री एवा लिप्सका की एक कविता...   

 
प्रतिनिधि : एवा लिप्सका 
(अनुवाद : मनोज पटेल) 

इस तरह लिखना कि 
भिखारी स्वीकार कर लें उसे पैसे की जगह. 

और जन्म की जगह स्वीकार कर लें उसे 
मरते हुए लोग.  
               :: :: :: 

8 comments:

  1. A blissful respite from the nasty anxieties of life. How i wish i could sit on the water tank of 3rd block admiring the tree tops, the moon and the gentle breez rustling past my ears.

    ReplyDelete
  2. आशावादी और जीवनदायी लेखन की हिमायत करती सुन्दर सोच.

    ReplyDelete
  3. "और जन्म की जगह" , की जगह 'जिंदगी की जगह ' कैसा रहेगा ?

    कविता तो बेमिसाल है ! आज कविता मे वह असर कहाँ ! आभार !

    ReplyDelete
  4. अदभुत.अदभुत अदभुत.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...