Wednesday, February 8, 2012

लैंग्स्टन ह्यूज : ईश्वर

लैंग्स्टन ह्यूज की एक कविता... 

 
ईश्वर : लैंग्स्टन ह्यूज 
(अनुवाद : मनोज पटेल) 

मैं ईश्वर हूँ -- 
किसी से भी नहीं है मेरी मित्रता,  
इतनी बड़ी दुनिया में 
तनहा हूँ, ढोता अपनी पवित्रता. 

मेरे नीचे नौजवान प्रेमी 
चहलकदमी करते हैं मोहक धरती पर -- 
मगर कैसे उतरूँ नीचे 
मैं तो हूँ ईश्वर.

उठो!
जीवन प्रेम है!
प्रेम ही है जीवन! 
ईश्वर -- और तनहा होने की बजाए 
बेहतर है होना इंसान.
               :: :: :: 
Manoj Patel Blog 

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  2. इंसान होना इतना श्रेष्ठ है कि ईश्वर भी तरसता है इस अवतार के लिए!
    कवि ने ईश्वर का हृदय पढ़ा और आपने हम तक यह सुन्दर कविता पहुंचाई...
    आभार!

    ReplyDelete
  3. सही तो है....इंसान होना बेहतर है

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. तनहाई से ईश्वर भी घबराता है......क्या बात है ?......बहुत सुंदर......!!

    ReplyDelete
  6. वाह...

    बेहतरीन रचना..

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...